Breaking

आँखों का था क़ुसूर न दिल का क़ुसूर था : जिगर मुरादाबादी

मसाला

Share it